पुरुष बांझपन का इलाज

एक दम्पत्ति अगर प्राकृतिक तरीके से गर्भ धारण करने में असमर्थ है तो इसका कारण पुरुषों और महिलाओं में होने वाले हार्मोनल विकारों हो सकते है। यदि कोई दंपत्ति लगातार एक साल से अधिक समय तक गर्भधारण करने की कोशिश कर रहा है और फिर भी वह संतान की प्राप्ति नहीं कर पा रहा है तो दंपति को बगैर किसी देरी के डाक्टर से सलाह लेनी चाहिए। यदि कोई दंपत्ति गर्भ धारण करने में असमर्थ है, तो इसका कारण हर समय महिला के अंडों की गुणवत्ता कम होना नहीं है बल्कि यह पुरुष प्रजनन क्षमता के कारण भी हो सकता है। यह पुरानी बात हो गई है जब बच्चे न होने का कारण सिर्फ महिला को बांझ माना जाता था।

बांझपन, यह समस्या कुछ समय पहले महिलाओं की समस्या मानी जाती थी। अगर आज की बात की जाए, तो 55 से 57 फीसदी दंपति की गर्भावस्था का कारण पुरुषों की बांझपन हो सकता है। 40 से 45 फीसदी सभी पुरुषों में कहीं न कहीं बांझपन की भागीदार रहती है। ऐसे में जब एक दम्पत्ति को गर्भधारण करने में परेशानी हो रही है, तो पुरुष और महिला दोनों की जांच की जानी चाहिए। कई मामलों में बांझपन के कुछ कारण अस्पष्ट है। अज्ञात बांझपन कारण तब होता है जब जांच में पुरुष की सभी रिपोर्ट नार्मल होती है फिर भी अपने साथी को वह गर्भवती नहीं कर पा रहा है।

पुरुष बांझपन एक पुरुष की असमर्थता को प्रर्दशित करता है। पुरुष बांझपन आम तौर पर एक आदमी के शुक्राणु की गुणवत्ता और मात्रा पर निर्भर करता है। यदि शुक्राणु की मात्रा जो वह स्खलन करता है वह कम है या शुक्राणु की गुणवत्ता खराब है, तो महिला को गर्भावस्था का कारण बनना मुश्किल या असंभव है। बीमारी, संक्रमण, पुरानी स्वास्थ्य समस्याओं, चोटों और पर्यावरणीय कारकों जैसे कि कुछ रसायनों के संपर्क में आने से।

पुरुष बांझपन के कारण:-

  • हार्मोंस की समस्या
  • गिनती में कम शुक्राणु
  • कमजोर शुक्राणु गतिशीलता
  • जन्म दोष
  • बीमारी या संक्रमण
  • मोटापा
  • किसी भी दवा के दुष्प्रभाव से
  • किसी चोट और शारीरिक आघात के कारण
  • धूम्रपान की लत

पुरुष बांझपन के लक्षण:

  • यौन समारोह के साथ समस्याएं
  • दर्द, सूजन, या अंडकोष क्षेत्र में एक गांठ
  • आवर्तक श्वसन कार्य
  • सूंघने में असमर्थता
  • असामान्य स्तन वृद्धि
  • सामान्य स्पर्म काउंट से कम होना
  • कम चेहरे या शरीर के बाल या गुणसूत्र या हार्मोनल असामान्यता के अन्य लक्षण

पुरुष बांझपन का इलाज आयुर्वेद के द्वारा:-

एलोपैथिक उपचार प्रणाली में पुरुष बांझपन का कोई संतोषजनक उपचार नहीं है, इसलिए, इस स्थिति के लिए आयुर्वेदिक उपचार को ही सबसे अधिक पसंद किया जाता है। आयुर्वेदिक उपचार का किसी भी तरह का कोई दुष्प्रभाव नहीं है। आयुर्वेद में, अनेकों तरह की जड़ी-बूटियाँ हैं जो रोगियों के शुक्राणुओं की संख्या को बढ़ाने में और उनके प्रभावों के लिए जानी जाती हैं। इन जड़ी बूटियों में शुक्राणु को बढ़ाने वाले शुक्राणु कारकों का समृद्ध स्रोत होता है जो शुक्राणुओं की गुणवत्ता और मात्रा को बढ़ाते हैं और शुक्राणुओं की संख्या में वृद्धि करते हैं। यह स्वाभाविक रूप से सेक्स से संबंधित हार्मोन को बढ़ाता है और अधिक सेक्स शक्ति और जीवन शक्ति देता है।

आयुर्वेद के अनुसार पुरुष बांझपन के कारण –

  • यौन क्रिया में अधिक आनंद लेना।
  • हस्तमैथुन, मौखिक या गुदा मैथुन।
  • बहुत आलस्यपूर्ण जीवन व्यतीत करना।
  • तनावपूर्ण जिंदगी
  • अत्यधिक व्यायाम और शारीरिक श्रम।
  • अनुचित आहार और हेक्टिक जीवन शैली।
  • एक दिन में बहुत बार और कई बार (5-6 बार) संभोग करना।
  • यौन आग्रह का दमन।
  • अवांछनीय साथी के साथ संभोग करना।
  • मसालेदार और फास्ट फूड।

पुरुषों में प्रजनन शुक्राणु धातु के कारण होता है। पुरुषों में, शुक्राणु धातू वृषण की ओर जाता है, जो बदले में वीर्य में बदल जाता है। स्वस्थ गर्भाधान के लिए, मात्रात्मक और गुणात्मक शुक्राणु धतूरा बहुत महत्वपूर्ण है। उपरोक्त कारणों के कारण वात और पित्त के कारण हो सकते हैं। वात की शुष्क, ठंडी, पतली गुणवत्ता से वीर्य की कमी होती है और शीध्रपतन जैसी कई समस्याएं होती हैं। इसके कारण रोगी ठीक से इंटरकोर्स नहीं कर पाता है और शुक्राणुओं के कम होने से भी ओलिगोस्पर्मिया हो जाता है।

जलन और अधिक गर्मी में पित्त के परिणाम में वृद्धि भी शुक्राणुओं को गुणात्मक और मात्रात्मक रूप से नुकसान पहुंचाती है। इस फ्यूचर का परिणाम ऑलिगोस्पर्मिया और एजोस्पर्मिया में होता है। इन सभी स्थितियों के परिणामस्वरूप शुक्राणु घटता है। इसके अलावा जब ये दोष शुक्राणु वाहा श्रोत शक्र धातु को ठीक से काम नहीं कर सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप पुरुष बांझपन होता है।

पुरुष बांझपन में डाइट और जीवन शैली:-

पौष्टिक भोजन जो प्रोटिन में उच्च और वसा में कम होता है जैसे कि साबुत अनाज, सब्जियां, डार्क चॉकलेट, लहसुन, मैका, अखरोट, शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाने में मदद करता है।
कैफीन का सेवन कम करें व धूम्रपान, शराब के सेवन और तनाव के स्तर को कम करने से बचें।
कसैले, कड़वे और मसालेदार भोजन से बचना चाहिए।
कैल्शियम और विटामिन डी की दैनिक मात्रा का सेवन बढ़ाएँ। पानी और तरल पदार्थों का खूब सेवन करें।
नियमित व्यायाम करें और अतिरिक्त वजन कम करें। योग और ध्यान के नियमित अभ्यास से आपका शरीर और दिमाग स्वस्थ रह सकता है।
ढीले और सूती कपड़े पहनें और गर्म स्नान से बचें।
रक्त परिसंचरण को बढ़ाने के लिए नियमित रूप से मालिश करें जो वीर्य की मात्रा को बढ़ाने में मदद करता है।

पुरुष बांझपन का आयुर्वेदिक ईलाज कैसे किया जाता हैं?

प्राकृति में अनेको ऐसी जडी बूटियाँ हैं हमे आशीर्वाद के रूप में दी है जोकि पुरुष बांझपन की समस्या को जड से खत्म करने में सक्षम है जैसे कि अश्वगंधा, शतावर, शिलाजीत, सफेद मूसली, केसर, मकरध्वज आदि। हमने अपने अनुभव से इन सभी बहुमुल्य जडी बुटियों को एक सही अनुपात एवं तापमान में मिलाकर कामा आयुष्मान कोर्स का निर्माण किया है। इसके सेवन से कुछ ही दिनों में पुरुषों को तनाव आने लगता है और 3 – 4 महीने के लगातर प्रयोग करने से वीर्य प्रचुर मात्रा में बने लगेगा और शुक्राणुओ की कमी भी पूरी होगी । अगर आप इनका निश्चित अवधि तक नियमित सेवन करें तो पुरुष बांझपन की समस्या का खत्म होना निश्चित है।

उपचार के साथ कुछ परहेज भी अति आवश्यक हैं

  1. खटटे फलो व भोजन का परहेज करें।
  2. तला भोजन न करें।
  3. धूम्रपान, शराब एवं किसी भी नशीले प्रदार्थ का सेवन न करें।

रोगियों की जीवन शैली में बदलाव होने जरुरी है। इसमें एक संतुलित आहार और नियमित व्यायाम शामिल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *