शीघ्रपतन क्या होता है ?

शीघ्रपतन क्या होता है ?

यह पुरषो में पाई जाने वाली समस्या है | सेक्स करते समय थोड़ी देर में ही वीर्य पात  हो जाने को ही शीध्रपतन की समस्या कहते है | कई बार हालत इतने गंभीर हो जाती है के योनि पर लिंग लगते ही वीर्य का संखलेन हो जाता है |

शीध्रपतन जिसे इंग्लिश में  Premature Ejaculation भी कहते है | यह बहुत ही आम समस्या है और सामान्यत हर आदमी अपनी जीवन काल में इसका सामना करता है।  द नेशलन हैल्थ एण्ड सोशल लाईफ सर्जरी (अमेरिका ) में पाया गया है कि प्रमितशत युवा शीध्रपतन से ग्रसित है। यदि आप भी शीध्रपतन की समस्या से पीड़ित है तो आप अकेले नहीं है और इसका इलाज संभव है क्योकि यह सर्दी, खासी, बुखार की तरह एक  आप समस्या है| पैर यह गंभीर रूप धरें क्र लेती है जब आप इसको शरम से छुपाते है और इलाज नहीं कराते |

सेक्स में कितना कम समय को शीध्रपतन  माना जाता है?

सेक्स समय अगर 1 से डेढ मिनट है तो   पुरुष को निश्चित शीध्रपतन की समस्या है। मगर आयुर्वेद के अनुसार अगर आप का वीर्य पैट आप के नियंत्रण में नहीं है तो भी आप  शीधपतन की समस्या से पीड़ित है | हमारे अनुभव के अनुसार अगर आप अपने पार्टनर को संतुस्ट करने में असमर्थ है तो आप शीघ्रपतन के मरीज हो सकते है | शीध्रपतन की समस्या को पुरुष और महिला संबधों से जोड की ही देखा जाता है लेकिन कुछ डाक्टर्स हस्तमैथुन के दौरान भी समयपूर्व डिस्चार्ज होने को शीध्रपतन से जोडकर देखते है।

शीध्रपतन के लक्षण क्या हैं?

1. सेक्स करते समय शीध्रपतन का डर होना

2. सेक्स के दौरान 1 मिनट से पहले वीर्यपात हो जाना

3. सेक्स को बार बार टालना

4. संभोग करने के बाद पछतावा महसूस होना

5. पार्टनर को संतुष्ट न क्र पाना

शीध्रपतन के प्रकार –

शीध्रपतन दो प्रकार का होता है –

1 लाइफ लान्ग (प्राइमरी) – अगर आप शुरूआत यानि पानी जवानी से ही जल्दी वीर्य संख्लन के सीकर है तो यह प्राइमरी शीध्रपतन  है ।

2. एक्वायर्ड (सेकेंडरी) –  इस मामले में पहले तो व्यक्ति नाॅर्मल तरीके से सेक्स करता है और पार्टनर को भी सैटिस्फाई केर लेता है  लेकिन बाद में उसे शीध्रपतन की शिकायत शुरु हो जाती है।

शीध्रपतन के कारण –

पहले इसे एक मनोवैज्ञानिक समस्या समझा जाता था वहीं अब इसे मनोवैज्ञानिक और जैविक कारक का सयुंक्त प्रभाव माना जाता हैं। शीध्रपतन का कोई सटीक कारण नही है. इसके कई कारन हो सकते है |

इन कारणो से होता हैः

1. नए पार्टनर के साथ सेक्स करने पर शीध्रपतन हो सकता है

2. अनुवांशिक कारण

3. स्ट्रेस या चिंता , ये संम्भोग या किसी अन्य समस्या को लेकर भी हो सकती है

4. कुछ विशेष पोजिशन में सेक्स करने पर भी शीध्रपतन की स्थिति आ सकती है

5. बहुत दिनों के बाद सेक्स करनेे पर शीध्रपतन की स्थिति आ सकती है।

6. लडकपन में पकडे जाने के डर से जल्दबाजी में किया गया सेक्स बाद में भी शीध्रपतन का कारण बन सकता हैं

7. फीमेल पार्टनर को संतुष्ट करने की टेंशन

8. ब्रेन केमिकल्स का एब्नार्मल लेवल

9 डायबिटीज

10.  मन में सेक्स को लेकर पछतावा होना की ये गंदी चीज है

11. डिप्रेशन

12. हाई ब्लड प्रैशर

13. किसी दवा का साइड इफेक्ट

14. पेनिस के स्किन का हाइपर सेंसिटिव होना (ऐसे मामलों में नुमबिंग क्रीम मददगार होती है)

15. कुछ थाइरोइड सम्बन्धी समस्याएं

15.  सेक्स के दौरान चिंता होना पेनिस देर तक खडा नहीं रह पायेगा, जडी एजैक्युलेट करने का पैटर्न बना सकता है

17. संबंधों में समस्या

18. प्रोस्टेट डिजिज

19. हार्मोनल प्राॅब्लम

20. प्रोस्टेट या मुत्रमार्ग में सूजन या संक्रमण

20. सर्जरी या आघात के कारण नसों में हुई क्षति

नोट – शीध्रपतन को एक बीमारी  तभी माने जाता है जब यह बार बार हो कभी कभार होना नार्मल है।

शीधपतन के लिये योग –

1. पश्चिमोत्तानासन

पेरो को सामने की और करके बैठ जाये, पेरो की ऊँगली तन कर रीढ़ की हड्डी को सीधा करे | साँस अंदर लेते हुए हाथो को ऊपर उठा के ऊपर की तरफ खींचे|  सांसे छोड़ते हुए आपमें पंजो पैर ध्यान केंद्रित करते हुए आगे की तरफ झुके और हाथो को पेरो पैर रखेअब साँस लेते हुए सर को उठाये | साँस छोड़ते हुए नाभि को घुटनो की और ले जाये ऐसा 2-3 बार करे अब सिर को अब निचे झुका ले और 1 मिनट गहरी सांसे ले | हाथो को सामने की और  बढ़ा के सांसे बढ़ते हुए वैसे बैठ जाये और सांसे छोड़ते हुए हाथ निचे लाये |

ये आशान रोज करे शीघ्रपतन ठीक हो जायेगा|

2. धनुरासन

आप कमर के बल लेट जाये और पेरो को पीठ की तरफ मोडे और हाथो से पकड़ ले  अब साँस भरते हुए   अपने सरीर को खींच के धनुस की आकृति बनाये अब इस अवस्था में आराम करे और धीरे धीरे साँस ले 40 – 50  सेकंड के बाद साँस छोड़ते हुए सामान्य इस्थिति में आ जाये |

इसे कुछ ही दिन करने से शीघ्रपतन की समस्य में आराम मिलता है|

शीध्रपतन का आयुर्वेदिक उपचार –

आयुर्वेद में शीध्रपतन के उपचार के लिए लौहभस्म, मकरध्वज, शिलाजीत, शतावर, सफेद मुसली, जावित्री, अश्वगंधा आदि से किया जाता है । अगर आपको ये जड़ी बुटिया नहीं मिल रही है या आयुर्वेदाचार्य से मिलने में संकोच है तो KAMA SHAKTI VATI का प्रयोग करे। यह इन सभी जडी बूटियों का सही मात्रा और तापमन  पे बनाया गया  मिश्रण है इसकी एक गोली से ही आपकी शीध्रपतन की समस्या में काफी आराम हो जायेगा। आप KAMA SHAKTI VATI को किसी भी मेडिकल स्टोर से ले सकते है। अगर न मिले तो हमारे हेल्प लाइन न0 9871334644 पर सम्पर्क कर सकते है सिर्फ बंगाली दवाखाना की KAMA SHAKTI VATI लें।

उपचार के दिशा निर्देश क्या है?

1. तला, अपाच्य व खटटे फलों व भोजन का परहेज करें

2. ध्रुमपान, शराब एवं किसी भी नशीले प्रदार्थो का सेवन न करें।

3. जीवन शैली में बदलाव करे संतुलित आहार ले और व्यायाम आवसय करे

ठीक होने में कितना समय लगता है

अगर आप दवाई समय पैर लेते है और उपरोक्त सभी परहेज करते है तो पहले  दिन में फर्क दिखने लगेगा और 28 दिन की कोर्स में आप ठीक हो जायेंगे |

ईलाज की कीमत क्या है?

KAMA SHAKTI VATI 40 साल के सफल अनुभव का निचोड है। इसकी  कीमत 3000 रुपये है जोकि 28 दिन की खुराक है।

क्या उपचार के परिणाम स्थायी हैं?

जैसा हम जानते है आयुर्वेद समस्ये लेता है पैर बीमारी को जेड से काटता है | KAMA SHAKTI VATI आयुर्वेद की बेजोड औषधि का मिश्रण है जो की शीघ्रपतन को जड से खतम करने में सक्छम है।

आशा करते है आप के हमारी दे जानकारी आपके लिए लाभदायक होगी | अगर अब भी कोई संकोच है तो हमारे सहयता No. 9871334644 पर कॉल करे पूरी सहायता की जाएगी |

धनयवाद

डॉ दीपक गुप्ता